भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए आई एक बड़ी खुशखबरी, जिसे जानकर विरोधी पार्टियों को लगेगा बड़ा झटका

0
48

रूपये की गिरती स्तर और पेट्रोल एवं डीजल के बढ़ती मूल्यों से भारत सरकार बहुत ही चिंतित नज़र आ रहीं थी. लेकिन इन सभी चिंताओं के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक ऐसी खुशखबरी आई है जिसे जानकर विरोधी पार्टियों को बड़ा झटका लग सकता है. विरोधी पार्टी जो कि इस उम्मीद थे कि वो अब केंद्र सरकार को महंगाई के मुद्दे पर घिरेंगे लेकिन अब उनकी सारी उम्मीदों पर पानी फिरता नज़र आ रहा है. आइये हम आपको बताते है आखिर क्या वह खुशखबरी

गौरतलब है कि भारत में लगातार बढ़ती रही महंगाई दर में अचानक दस महीने में सबसे कम हुई है. रूपए और शेयर बाजार की हालत में सुधार के बाद खुदरा महंगाई दर के निचले स्तर पर 3.69 प्रतिशत हो गई थी. जबकि इससे पहले महंगाई की दर 4.17 प्रतिशत थी जो आंकड़े बाजार के अनुमानों के अनुरूप ही हैं.

वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के विभाग में सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ( image source: dainik jagran)

दूसरी ओर औद्योगिक उत्पादन में भी गिरावट 6.6 प्रतिशत हो गई. जबकि इससे पहले जून में ये आंकड़ा 7 प्रतिशत थी. आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने इन आंकड़ो की जानकारी देते हुए बताया कि पिछले कुछ समयों से मैन्युफैक्चरिंग स्तर में लगातार गिरावट हो रही थी लेकिन पिछले सप्ताह के बाद मैन्युफैक्चरिंग की गिरती स्तर में लगातार बढ़ोतरी होने लगी और चालू वित्त वर्ष में आईआईपी की ग्रोथ रेट 5.4 प्रतिशत रही है.

image source: dailyhunt

खुदरा महंगाई की दर में कमी से इससे निर्धन वर्ग के लोगों काफी राहत मिलने वाली है. गर्ग ने कहा कि, “भारत की माइक्रो इकोनॉमिक स्थिति लगातार बेहतर बनी हुई है. महंगाई की दर में कमी से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि अब भारत बहुत ही जल्द अपनी पुरानी आर्थिक वृद्धि की ओर आगे बढ़ सकता है.”