राफेल पर रक्षा मंत्री निर्मला जी ने दिया कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब, किया ये बड़ा खुलासा

0
102

देश में इस समय कांग्रेस राफेल डील और पेट्रोल-डीजल की बढ़ रही कीमतों को लेकर जमकर प्रदर्शन कर रही है और मोदी सरकार को घेरना चाह रही है लेकिन जनता सब समझ चुकी है कि कांग्रेस सिर्फ जनता को गुमराह करना चाह रही है. इसके पीछे की वजह ये है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी खुद अलग-अलग जगह जाकर राफेल डील के अलग-अलग दाम बता रहे हैं, उन्हें खुद पता नहीं है कि ये डील कितने में हुई है. अब राफेल डील को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बड़ा खुलासा किया है कि आखिर ये डील कांग्रेस सरकार में क्यों रद्द हुई थी?

जानकारी के लिए बता दें रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरूवार को खुलासा करते हुए कहा है कि कांग्रेस सरकार में 126 राफेल जेट विमानों की खरीद का करार हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लि. (एचएएल) की खराब हालत की वजह से परवान नहीं चढ़ सका.

image source: the hindu

इसके आगे निर्मला जी ने बताया है कि 2013 में तत्कालीन रक्षा मंत्री ए.के एंटनी के हस्तक्षेप ने उस दौरान हो रही इस डील को खत्म करने का काम किया था. उन्होंने बताया है कि जब लागत पर बातचीत करने वाली समिति इस सौदे को अंतिम रूप दे रही थी तब ए.के एंटनी ने फ़ाइल को ऐसे स्तर पर रोका था जहाँ उनकी कोई भूमिका नहीं थी. सीतारमण के इस खुलासे के बाद जब ए. के एंटनी से जब संवाददाताओं ने संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि वे इस बयान पर कुछ कहना नही चाहते हैं.

Image Source-Hari Bhoomi

गौरतलब है कि सीतारमण ने कहा कि एचएएल से बातचीत के बाद फ्रांसीसी कंपनी डसॉल्ट एविएशन  महसूस किया गया और बात इस निष्कर्ष पर पहुंची कि अगर राफेल डील को उत्पादन भारत में होता है तो इसकी लागत और ज्यादा बढ़ जाएगी. इसी के साथ रक्षामंत्री निर्मला जी ने एक बड़ा दावा किया है कि मोदी सरकार ने विमान की कीमत के बारे में जो करार किया है, वो कांग्रेस सरकार में बनी सहमती से भी 9 फीसदी कम कीमत में डील हुई है. उन्होंने बताया है कि राफेल विमानों की आपूर्ति सितंबर 2019 से शुरू होने की संभावनाएं हैं.