खुद कांग्रेस नेता बोला “कुरान की कसम खा सकता हूँ, होटल में राहुल गाँधी और नीरव मोदी…”, किया धमाकेदार खुलासा

0
307

भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को लेकर देश में राजनीतिक बहस शुरू हो चुकी है. नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का भी नाम इसी लिस्ट में शामिल है. हीरा कारोबारी नीरव मोदी पीएनबी घोटाला कर देश से भाग गया है. भगोड़े नीरव मोदी और राहुल गांधी के बीच रिश्ते को लेकर बागी कांग्रेसी नेता शहजाद पूनावाला ने बड़ा खुलासा किया है.

जानकारी के लिए बता दें कि शराब कारोबारी विजय माल्या ने दावा किया है वो देश छोड़ने से पहले सेटलमेंट करने के लिए वित्त मंत्री से मिला था हालाँकि वित्त मंत्री माल्या की इस बात से इनकार कर चुके है. वहीँ अब शहजाद पूनावाला ने राहुल गांधी को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है. शहजाद ने दावा किया है कि नीरव मोदी को जब लोन दिया जा रहा था उसी वक्त राहुल गांधी ने एक ख़ास कार्यक्रम मे नीरव मोदी से मुलाकात की थी.

Source-Khas Khabar

शहजाद पूनावाला ने कहा कि राहुल गांधी इस बात से इनकार कर रहे है कि उन्होंने सितंबर 2013 की कॉकटेल पार्टी में नीरव मोदी से मुलाकत नही की थी. पूनावाला ने बताया कि यह मुलाकात उस वक्त हुई थी जब भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी को कर्ज दिया जा रहा था. शहजाद ने कहा कि वे सच बोल रहे हैं इसके लिए कुरान की कसम खा सकते है. इसे साबित करने के लिए वे ‘लाई डिटेक्टर टेस्ट’ भी करा सकते है. शहजाद पूनावाला ने कहा है कि अगर वे गलत साबित हुए तो राजनीति छोड़ देंगे.

Source-Patrika

दरअसल कांग्रेस की सरकार इन भगोड़े कारोबारियों को कर्ज देते चली गयी. इसके पीछे भगोड़े कारोबारियों और कांग्रेस के बीच रिश्ते मुख्य कारण थे. अब यही कांग्रेस मोदी सरकार को उस वक्त घेरने की कोशिश कर रही है जब सरकार भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून लेकर आई है और लगातार इन भगोड़े कारोबारियों पर नकेल कसने के लिए काम कर रही है. विपक्ष अब इस मुद्दे पर राजनीति करना चाहता है. अब देखना यह होगा कि क्या राहुल इस मुलाकात पर सफाई देंगे या नहीं और क्या यह बात सच है कि इस मुलाकात का नीरव और मेहुल को लोन दिए जाने से कोई संबंध था, क्योकि उस समय UPA की सरकार थी.