Breaking News
Home / News / राफेल पर रक्षा मंत्री निर्मला जी ने दिया कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब, किया ये बड़ा खुलासा

राफेल पर रक्षा मंत्री निर्मला जी ने दिया कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब, किया ये बड़ा खुलासा

देश में इस समय कांग्रेस राफेल डील और पेट्रोल-डीजल की बढ़ रही कीमतों को लेकर जमकर प्रदर्शन कर रही है और मोदी सरकार को घेरना चाह रही है लेकिन जनता सब समझ चुकी है कि कांग्रेस सिर्फ जनता को गुमराह करना चाह रही है. इसके पीछे की वजह ये है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी खुद अलग-अलग जगह जाकर राफेल डील के अलग-अलग दाम बता रहे हैं, उन्हें खुद पता नहीं है कि ये डील कितने में हुई है. अब राफेल डील को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बड़ा खुलासा किया है कि आखिर ये डील कांग्रेस सरकार में क्यों रद्द हुई थी?

Image Source-The Assian Age

जानकारी के लिए बता दें रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरूवार को खुलासा करते हुए कहा है कि कांग्रेस सरकार में 126 राफेल जेट विमानों की खरीद का करार हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लि. (एचएएल) की खराब हालत की वजह से परवान नहीं चढ़ सका. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने संपादकों और संवाददाताओं के साथ बातचीत करते हुए कहा है कि फ्रांसीसी कंपनी डसॉल्ट एविएशन के साथ मिल कर भारत में इस लड़ाकू विमान के लिए क्षमता ही नही थी और सार्वजनिक क्षेत्र की यह कंपनी काम की गारंटी देने की भी स्थिति में नहीं थी.

Image Source-deccanchronicle

इसके आगे निर्मला जी ने बताया है कि 2013 में तत्कालीन रक्षा मंत्री ए.के एंटनी के हस्तक्षेप ने उस दौरान हो रही इस डील को खत्म करने का काम किया था. उन्होंने बताया है कि जब लागत पर बातचीत करने वाली समिति इस सौदे को अंतिम रूप दे रही थी तब ए.के एंटनी ने फ़ाइल को ऐसे स्तर पर रोका था जहाँ उनकी कोई भूमिका नहीं थी. सीतारमण के इस खुलासे के बाद जब ए. के एंटनी से जब संवाददाताओं ने संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि वे इस बयान पर कुछ कहना नही चाहते हैं.

Image Source-Hari Bhoomi

गौरतलब है कि सीतारमण ने कहा कि एचएएल से बातचीत के बाद फ्रांसीसी कंपनी डसॉल्ट एविएशन  महसूस किया गया और बात इस निष्कर्ष पर पहुंची कि अगर राफेल डील को उत्पादन भारत में होता है तो इसकी लागत और ज्यादा बढ़ जाएगी. इसी के साथ रक्षामंत्री निर्मला जी ने एक बड़ा दावा किया है कि मोदी सरकार ने विमान की कीमत के बारे में जो करार किया है, वो कांग्रेस सरकार में बनी सहमती से भी 9 फीसदी कम कीमत में डील हुई है. उन्होंने बताया है कि राफेल विमानों की आपूर्ति सितंबर 2019 से शुरू होने की संभावनाएं हैं. मोदी सरकार ने फ्रांस के साथ यह डील 58 हजार करोड़ में 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए की है.वहीँ कांग्रेस इस डील में घोटाले का आरोप लगा रही है जोकि खुद कांग्रेस की सरकार में बनी सहमती से कम में हुई है. निर्मला जी के इस खुलासे के बाद राहुल गाँधी और सोनिया गाँधी के भी होश उड़ सकते हैं.

Subscribe to this YouTube Channel for best videos:

https://www.youtube.com/newindiajunction?sub_confirmation=1

News Source-punjab kesri

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *